सफ़र

रात और दिन, हर पल
मंजिल आंखों में लिए
जलता हूँ इस तपती धूप में
जाना मुझे ख़ुद के पार
मेरा काफिला मैं ही हूँ

No comments: