दोस्ती


एक हसीन सौगात
मीठे लम्हों की बरसात
अनकही सी एक बात
है यह दोस्ती !

जन्नत का एहसास
सुनहरा सा जज़्बात
यारों का साथ
है यह दोस्ती !

बात-बात पे लड़ना
झगड़ना और मचलना
फिर साथ में हँसना
है यह दोस्ती !

कुछ दूरियां कभी आयें तो
और 'अहम्' लड़ जाएँ तो
राहें जुदा हो जाएँ तो
है यह दोस्ती ??

दोस्त दुश्मन बन जाएँ तो
तलवारें उठ जाएँ तो
मर मिटें नफरत की आग में
है यह दोस्ती ??

क्यों फिर हम दोस्ती के गीत गाते हैं
सबसे अच्छे दोस्त ही जब दुश्मन बन जाते हैं
क्यों यारों हम झूठे सपने सजाते हैं
वक्त के थपेडों से कितने ही घरोंदे उजाड़ जाते हैं

माना उम्मीद पे दुनिया कायम है
आशाओं की ताकत में बड़ा दम है
लेकिन यह सोचो दोस्त
जो वादे कर, जुदा हो जाएँ
वो कैसे 'हम' हैं !!

No comments: