Aukaat

तेरी क्या औकात यहाँ
तेरी क्या बिसात यहाँ

जो उड़ता है तू नील गगन में
पंख अभिमान के पसारे
राख हो जायेंगे एक दिन ये
टूट जायेंगे अरमान सारे

फिर खिलें भी अगर नव पल्लव
तेरे मन के बगीचे में
तो भी संभलना ऐ दोस्त
क्यूंकि फिर जलेगा तू उसी अगन में

तेरी क्या औकात यहाँ
तेरी क्या बिसात यहाँ

सुनना पड़ता है सभी को सबकुछ
क्यूँ तेरे मन की तुझे सुनाएं लोग
देखना पड़ता है सभी को सबकुछ
क्यूँ तेरे मन माफिक दिखलायें लोग

कोई अलग नहीं है जान ले तू
भीड़ का एक कीड़ा है मान ले तू
तड़पता पैदा हुआ था
तड़पता ही मर जायेगा

तेरी क्या औकात यहाँ
तेरी क्या बिसात यहाँ

बस सीख ले तू इतना प्यारे
की रहना मस्त हमेशा
न उड़ना अपनी सीमा के पार
न लांघना कोई दीवार

तुम तुम हो
वो वो हैं
तुम वो नहीं
वो तुम नहीं

अपने दायरे में हंसो खेलो
आशियाना बनाओ सपने बुनो
चाहे कितने ही प्रलोभन और अवसर आयें
अपनी औकात को मत भूलो क्यूंकि

तेरी क्या औकात यहाँ
तेरी क्या बिसात यहाँ ..

----------------------------------------------------------

(In English - Transliterated form)

teri kya aukat yahaan
teri kya bisaat yahaan

jo udta hai tu neel gagan mein
pankh abhimaan ke pasare
raakh ho jaayenge ek din yeh
tuut jaayenge armaan saare

phir khilein bhi agar nav pallav
tere mann ke bageeche mein
toh bhi sambhalna ae dost
kyunki phir jalega tu usi agan mein

teri kya aukat yahaan
teri kya bisaat yahaan

sunna padta hai sabhi ko sabkuch
kyun tere mann ki tujhe sunaayein log
dekhna padta hai sabhi ko sabkuch
kyun tere mann maafik dikhlaayein log

koi alag nhi hai jaan le tuu
bheed ka ek keeda hai maan le tuu
tadpata paida hua thaa
tadpta hi mar jaayega

teri kya aukat yahaan
teri kya bisaat yahaan

bas seekh tu itna pyaare
ki rehna mast hamesha
na udna apni seema ke paar
na laanghna koi deewar

tum tum ho
wo wo hain
tum wo nahin
wo tum tahin

apne daayre mein hunso khelo
aashiyaana banaao sapne buno
chahe kitne hi pralobhan aur avsar aayein
apni aukat ko mat bhulo kyunki

teri kya aukat yahaan
teri kya bisaat yahaan ..

No comments: