Maun


शब्द नहीं हैं मेरे पास
कुछ कहना भी नहीं है
कोई उम्मीद, कोई चाह भी नहीं
बस मौन बैठा हूँ

बहुत शोर है दुनिया में
चीख रहे अब तो सन्नाटे तक
खोकर तो देखो एक बार खुद में
खुदा का एहसास न हो तो कहना

चंद लफ्ज़, चंद अल्फाजों
तक ही सिमट के रह गयी है यह दुनिया
दिल के आईने में झांको ऐ दोस्त
जीना ना आ जाए तो कहना

तुम शांत रहोगे, लोग सवाल करेंगे
करने दो उनकी तो आदत है
झूमो मस्ती में तुम
फिकरें पीछे ना छूट जाएँ तो कहना

बीवी-बच्चे-ऑफिस-दोस्त-जिम्मेदारियां
सब अपनी जगह हैं
तुम्हारी जगह क्या है
सोचा है कभी

'खुद' से ही तो 'खुदा' बना है
आवाज़ अपनी सुनके देखो
चुप चाप धीमे से
शांत, संपूर्ण, समर्पित
हाँ! यही है!!

-------------------------------------------

(English - transliterated form)

Shabd Nahin Hain Mere Paas

Kuch Kehna Bhi Nahin Hai

Koi Ummed, Koi Chaah Nahin

Bas Maun Baitha Hun


Bahut Shor Hai Duniya Mein

Cheekh Rahe Ab Toh Sannate Tak

Khokar Toh Dekho Ek Baar Khud Mein

Khuda Ka Aehsaas Na Ho To Kehna


Chand Lafz, Chand Alfaazon

Tak Hi Simat Ke Reh Gayi Hai Yeh Duniya

Dil Ke Aaeene Mein Jhaanko Dost

Jeena Na Aa Jaaye To Kehna


Tum Shaant Rahoge, Log Sawal Karenge

Karne Do Unki To Aadat Hai

Jhumo Masti Mein Tum

Fikarein Pichhe Na Chhut Jayein To Kehna


Biwi-Bachche-Office-Dost-Zimmedariyan

Sab Apni Jagah Hain

Tumhari Jagah Kya Hai!

Socha Hai Kabhi


‘Khud’ Se Hi Toh ‘Khuda’ Bana Hai

Awaaz Apni Sunke Dekho

Chup Chap Dheeme Se

Shaant, Sampoorna, Samparpit

Haan! Yahi Hai!!

No comments: