Deewaro Se Ladta Hoon

दीवारों से लड़ता हूँ

ख़ुद से बातें करता हूँ

तुम जब से गए हो

जाने कितनी मौतें मरता हूँ



याद है तुम्हारी वो हंसी

जो छाओ थी मेरी धूप की

वो पलकें बिछाना तुम्हारा मेरे लिए

और मेरा उस प्यार को देख न पाना

लड़ता था तुमसे

गुस्सा होता था, चिढ भी जाता था अक्सर

लेकिन प्यार बहुत था

अब दीवारों से लड़ता हूँ

ख़ुद से बातें करता हूँ



प्यार का मतलब और प्यार का मकसद

दोनों समझ नहीं आते मुझे

सीधा सा आदमी हूँ

बस इतना जानता हूँ की

तुमसे ही मुस्कान मेरी, तुमसे ही आंसू

तुम नहीं हो ना जो अब पास

तो अकसर रोता भी हूँ

दीवारों से लड़ता हूँ

तुमसे बातें करता हूँ




तुमसे नहीं कहा कभी

लेकिन जानता हूँ की ग़लत हूँ मैं

माफ़ तुमने पहले भी किया है मुझे

तो एक बार और सही

आ जाओ ना

दीवारों से लड़ता हूँ

ख़ुद से बातें करता हूँ

तुम जब से गए हो

जाने कितने मौतें मरता हूँ ।

----------------------------------------------------------

(English-Transliterated Form)

deewaron se ladta hoon

khud se baatein karta hoon

tum jab se gaye ho

jane kitni mautein marta hoon



yaad hai tumhari wo hunsi

jo chaaon thhi meri dhoop ki

wo palkein bichchana tumhara mere liye

aur mera us pyar ko dekh na pana

ladta thha tumse

gussa hota thha, chhidh bhi jata tha aksar

lekin pyaar bahut thha

ab deewaron se ladta hoon

khud se baatein karta hoon



pyaar ka matlab aur pyaar ka maksad

dono nahi samajh aate mujhe

seedha sa aadmi hoon

bas itna jaanta hoon ki

tumse hi muskaan meri, tumse hi aansu

tum nahi ho na jo ab paas

toh aksar rota bhi hoon

deewaron se ladta hoon

tumse baatein karta hoon



tumse nahi kaha kabhi

lekin jaanta hoon ki galat hoon main

maaf tumne pehle bhi kiya hai mujhe

toh ek baar aur sahi

aa jaao na

deewaron se ladta hoon

khud se baatein karta hoon

tum jab se gaye ho

jane kitni mautein marta hoon.

1 comment:

Gaurav Kant Goel said...

Touching!!

You may like these:

http://fakegaurav.blogspot.com/2009/12/other-side.html

http://fakegaurav.blogspot.com/2007/12/you-and-i.html