Main Mar Raha Hoon

मैं मर रहा हूँ  

दरख्त सूख जाते हैं
फूल मुरझाते 
और पत्ते झड़ जाते हैं 
जिजीविषा की जड़ें तक जब बाहर आने लगें ज़मीं से
तब समझ लेना
कि मैं मर रहा हूँ  

मिला सोने का पिंजरा, चाँदी की कटोरी
बिछडा साथ और अपनी रोटी
तकता हूँ आसमान को, भूला अपने गीत
और उड़ना तक जब भूलने लगूँ मैं
तब समझ लेना 
कि मैं मर रहा हूँ  

तेज़ भागती ज़िन्दगी में 
अपनों के लिए समय न पाऊं
किसी आंसू को देखकर भी
बिना डिगे आगे बढ़ जाऊं
जाने अनजाने बात बेबात
किसी दिल को दुखाऊं
झूठ, कपट, हिंसा और चोरी
देखूं फिर भी चैन से सो जाऊं
अरे ! 
मुस्कुराऊं फिर भी न मुस्कुरा पाऊं
तब समझ लेना
कि मैं मर रहा हूँ |

-----------------------------------------------------------------------------
(English - transliterated form)

Main Mar Raha Hoon

Darakht sookh jaate hain
Phool Murjhaate
Aur patte jhad jaate hain
Jadein tak jab bahar aane lagti hain zamin se
Tab samajh lena
Ki main mar raha hoon

Mila sone Ka pinjra, chaandi ki katori
Bichhda saath aur apni roti
Takta hoon aasmaan ko, bhoola apne geet
Aur udna tak jab bhulne lagun main
Tab samajh lena
Ki main mar raha hoon

Tez bhaagti zindagi mein
Apno ke liye samay na paaun
Kisi aansu ko dekhkar bhi
Bina dige aage badh jaaun
Jaane anjane baat bebaat
Kisi dil ko dukhaaun
Jhooth, kapat, hinsa aur chori
Dekhun phir bhi chain se so jaaun
Arrey !
Muskuraaun phir bhi na muskura paaun
Tab samajh lena
Ki Main Mar Raha Hoon.

No comments: