दास्ताँ - ए - ज़िन्दगी

टुकडो में मरना
आग में जलना

रोज़ टूटना
रोज़ बिखरना

अपने साए से लड़ना
खुद से बातें करना

कम हँसना ज़्यादा रोना
कम पाना ज़्यादा खोना

कैसी हो गयी है ज़िन्दगी
कि भूल गए बन्दे बंदगी

रोज़ निकलते हैं घर से, जीने के बहाने
रोज़ चूर होते हैं सपने, ढूँढ़ते हैं मरने के बहाने

इसलिए तो नहीं हैं हम
इसलिए तो नहीं आये यहाँ

किसलिए..
फिर आखिर किसलिए?

5 comments:

shekhu said...

bhai jakhm pe malham jaisa hai ye geet
acha laga ..

swati said...

right from heart.. very nice..

Aditya ! said...

thnkuu :)

गौरव said...

Dear Aditya, I am really happy to see that you are one of those few ppl who let their heart flow like wild rainy river. This very innocent unbalanced poem has every ingradient of emotional breakdown. May be in few lines you represented the messege from our young generation. Keep it up buddy. keep writing this will let you live...........!

Aditya ! said...

@gaurav, thank you for appreciating my works.