अपनी अपनी पैंत :)

अपनी अपनी पैंत ?? आप सोच रहे होंगे की अब भाई ये क्या नयी चीज़ आ गयी? अगर आप नॉर्थ इंडिया से हैं या आज की जेनरेशन से वास्ता रखते हैं, तो शायद इस शब्द से आपका परिचय पहले ही हो चुका हो. पैंत का मतलब होता है टशन बोले तो स्टाइल मारना याने की शो ऑफ करना मतलब रौब जमाना जैसे शेखी बघारना या फिर यूँ समझ लो बड़े शब्दों में की सूडो-पेर्सोनालिटी(Pseudo Personality) आपकी.... ऐसे ढेर सारे अर्थ निकाल सकते हैं आप इस लफ्ज़ के.
आइये आपको एक उदाहरण से समझाता हूँ पैंत के बारे में . किसी भी सरकारी ऑफिस में चले जाइए आप. जो सबसे बड़ा ऑफिसर होता है ना, उसकी पैंत सबसे जादा होती है. उसके नीचे वाला अफसर उसके सामने तो भीगी बिल्ली होता है, लेकिन बाकी लोगों के सामने उसकी भी पैंत कम नहीं होती. ऐसे ही क्रम चलता रहता है. सबकी अपनी अपनी पैंत का.

क्या सोच रहे हो? कि क्या बकवास है ये? अरे मैं कभी बकवास के अलावा कुछ और बात करता हूँ भला !

चलो एक और थोड़ा close example लेते हैं. घर पर जब तक पिताजी नहीं होते तब तक बच्चे पैंत में रहते हैं, शरारत करते हैं, बिंदास टीवी देखते हैं, मम्मी कि बात नहीं सुनते.. लेकिन शाम को पिताजी के घर पधारते ही ........ उनकी पैंत रफू-चक्कर हो जाती है. अब समझे? नहीं समझे!! .. मैं मान ही नहीं सकता..

चलो, एक last example देता हूँ एकदम heart वाला touching.. आप सड़क पर चले जा रहे हैं.. अकेले.. सामने से कोई सुन्दर सी सुकुमाल सी प्यारी सी(बोले तो: हॉट) कन्या आती हुई दिखाई पड़ती है. क्या करते हैं आप? छाती फूल जाती है, चौड़ में आ जाते हैं, बाल-वाल ठीक करते हैं, अपनी चाल का ध्यान रखते हैं, नज़र बचा कर देखते हैं उसे...मतलब आप तुरंत झट से अपनी पैंत में आ जाते हैं. अब समझे? अब क्यूँ नहीं समझ आएगा ! :P

तो मैं इतना सब पैंत के बारे में बोल क्यूँ रहा हूँ आखिर ? क्युंकी मैंने देखा है कई लोगों को पैंत मारते. मुझे उन्हें देख अक्सर हंसी आ जाती है. आपने भी देखा होगा. बस नोटिस नहीं किया होगा, क्युंकी क्या पता.. आप भी शायद तब अपनी पैंत में रहे हों ?

:)

2 comments:

Utkarsh said...

पैंत बोले तो बखत

Aditya ! said...

saii kaha bhiya...