कुछ शब्द जोड़कर रखे हैं

कुछ शब्द जोड़कर रखे हैं
तुम्हारा ज़िक्र है
हमारी बातें हैं
यादों को वक्त के धागे में पिरोया है
बारिश की बूँदें हैं कुछ
सहेजी हैं
सूरज को थामा है
चाँद को टोका है
चंद अल्फाजों ने
बहती धारा को रोका है

कुछ शब्द जोड़कर रखे हैं
बस तुम आ जाओ तो कविता बन जाए 

12 comments:

raaaj said...

chhotu yaha se bheju ya vahi dhund loge??..

Shivang said...

awesome....gr8 thoughts

shekhu said...

tumne aaj bhut dino baad sabdon ke rang bikhere ho

such me mujhe bhut pasand aaya hai

aur tum jab bhi sabdoon ke jaal buno to mujhe jaroor batana

Aditya ! said...

thnku shekhu :)

Raphael said...

kavita banao....bikhre shabdon se, ya taqdeer ke dhagon se...bas tum banaate chalo, hum padhte rahenge....

Aditya ! said...

:)

हिमधारा said...

आपके ब्लोग पर आ कर अच्छा लगा! ब्लोगिंग के विशाल परिवार में आपका स्वागत है! आप हिमाचल प्रदेश से सम्बधित है इसलिये हम आपको बताना चाहेगे कि हिमधारा ब्लोग हिमाचल प्रदेश के शौकिया ब्लोगर्स का एक प्रयास है ! आप इससे जुड़ कर अपना रचनात्मक सहयोग दे सकते है ! आपसे आग्रह है की हिमाचल के अन्य शौकिया ब्लोगर्स के ब्लॉग के पतें हमें ईमेल करें या आप उनका पता पंजिकृत करवा दें ताकि उनकी फीड हिमधारा में शामिल हो सके और स्तरीय रचनाओं की जानकारी पाठकों को मिल सके ! हिमधारा में प्रकाशित रचनाओं पर अपने विचार और सुझाव ज़रुर दें आपके विचार जहां रचना के लेखक को प्रोत्साहित करेंगे वहीं हिमधारा को और निखारने में भी हमें मदद देंगे! आप हिमधारा के दो और प्रयास (संकल्क)हिमधारा और टिप्स भी देखें और अपना सुझाव दें! आप अपना ब्लोग अन्य हिन्दी ब्लोग संकल्कों ब्लोगवाणी , चिठ्ठाजगत,INDIBLOGGER, हिन्दी लोक, हिन्दी ब्लोगों की जीवनधारा इसके अलावा आप इन संकल्कों पर अपना ब्लोग पंजिकृत करवा सकते है! पंजिकरण के दौरान साईट द्वारा जारी नियमों का पालन करें !टेकनोक्रेती, टोप ब्लोग एरिया,टोप ब्लोगिग, ब्लोग टोप लिस्ट,फ़्यूल माई ब्लोग, माई ब्लोगिग एरिया, ब्लोग केटालोग,ब्लोग इन फ़्यूज़न,ब्लोग होप, ब्लोगरमा,टोप ब्लोग लिस्ट्स,माई ब्लोग डायरेक्ट्री,ब्लोगरोल इस तरह के प्रयास से आपकी रचनायें ज़्यादा पाठकों तक पंहुच सकती है! आप किसी भी भाषा में लिखते हो अच्छा पढे़ और अच्छा लिखें! ब्लोगिंग के लिये आपको शुभकामनायें!
हैप्पी ब्लोगिंग!
सहयोग की आशा सहित
सम्पादक हिमधारा

shekhu said...

ye poem jitna bhi padh lun main ..mera maan nhi bharta .....nice 1 yaar

Aditya ! said...

thnq shekhu !!

Misha said...

:')

kalpana said...

loved this one.......

Aadii said...

Thanks :)