एक रंग

तुम हो एक रंग
एक रंग हूँ मैं
ज़िन्दगी के कैनवास पर
चलो पेंटिंग बनाते हैं
लकीरें खीच दी हैं
ऊपर वाले ने पहले से
बस रंग भरना बाकी है
एक रंग से लेकिन
रंगती नहीं तस्वीर कोई
इसलिए
आओ दोनों मिल जाएँ
ज़िन्दगी को मुकम्मल बनाएं.

3 comments:

shekhu said...

ye poem me yaad kar leta hun jab kissi ko propose karunga to issi poem se karunga..sayad maan jaye waise to koi maane se rahe

shekhu said...

ye poem me yaad kar leta hun jab kissi ko propose karunga to issi poem se karunga..sayad maan jaye waise to koi maane se rahe

Aditya ! said...

haha..zarur zarur :)