वो क्या है?



जो आंसू आँखों से बहा वो ख़ुशी है 
तो जो बहते बहते रुक गया वो क्या है?

जो हाथ पकड़ा तुमने वो साथ है
तो जो छूट गया वो क्या है?

उस दिन जो लम्हा थम गया वो 'याद' है
तो जो आगे बढ़ गया वो क्या है?

जो बात कह दी वो सब कुछ है
तो जो कह नहीं पाया वो क्या है?

जो मिल गयी वो ज़िंदगी है
तो जो खो गया वो क्या है?

2 comments:

The Myth said...

very beautifully written...

Aadii said...

Thank you so much :)