College की कमाई

एक कागज़ का टुकड़ा Degree. 
कुछ बेमानी courses.
अंग्रेज़ी गानों का शौक.
चंद बुरी आदतें. 
डेढ़ quintal नर्म यादें.
पचास ग्राम maturity.
Hard drive का movie collection.
कुछ मीठे कुछ नमकीन किस्से.
पहाड़ी हवाओं की दोस्ती. 
Hostel के कमरे में बंद बादल. 
आंसुओं में घुली चार मुस्कुराहटें.
कुछ कमीने दिल अज़ीज़ दोस्त.
और.. तुम. 


Vicious cycle ~


You are an object of misery. Your DNA is made up of hopes and expectations. Hopes that keep your darkness at bay, and expectations that mask your world from seeing light. You are stuck in a world full of dilemmas doomed to love, doomed to expect and doomed to suffer. Freedom for you has become a lost concept. In pursuing your peace, you forget that happiness actually lies in the pursuit itself. There is nothing when - and if - you reach there wherever you are going. Destination is a myth. You walk and you are not happy because you want a bicycle. When you get a bicycle you are not happy because you want a motorbike. When you have a motorbike, you want a car. When you have a car, and you are stuck in traffic jam, you think bicycle was better. Life revolves around one long miserable vicious cycle. Your yesterdays are laughing on your wasted todays

Crossroads ~


Choices that spoil us
Surprising like a genie from the lamp
Confusing like corporate policies
Shocking like a truth
Humbling like a shattered ego
Matters not whether you dislike them
Who are you to matter after all
Paths: Black, white and mostly grey
Life swings between some hard decisions
From one crossroads to another.

यहाँ ~


इन कायदों में इन पेचीदा क़ानूनो में
इन काँच के मखमली मकानो में

इन समाजों के दिखावटी रिवाज़ों में
इन धूल खाते बंद दरवाज़ों में

इन दस्तूरों की गिनती है हज़ारों में
इन होशियार लोगों की शातिर निगाहों में

एक पंछी आसमान को तकता है
यहाँ उसका दम घुटता है ~

इन बेतरतीब चमकती इमारतों में
इन बेहोश नशीली हरारतों में

इन मतलबी ज़रीन धागों में
इन हंसते नज़र आते अभागों में

इन सलीके से सजे मेहमानो में
इन ज़हरीले लज़्ज़तदार पकवानो में

एक पंछी उड़ने के सपने बुनता है
यहाँ उसका दम घुटता है ~

इन बेमतलब से आम सवालों में
इन सहमे से मासूम ख्यालों में

इन धड़कनों की बेतरतीब रफ़्तारों में
इन रूह में जलते गुबारों में

इन खिलखिलाते शैतानी सायों में
इन अपने से लगते परायों में

एक पंछी बारहा टूटकर जुड़ता है
यहाँ उसका दम घुटता है ~