तूफान



आओ, एक बार आसमान से बातें करके देखें
सदियों से चुपचाप देखता आया है हमें
ये कुछ बोलता क्यों नहीं?

क्या क्या नहीं देखा है इसने
हमारी बचकानी हरकतें हमारी नादानियाँ
हज़ारों सालों में लिखी गयी ढेरों कहानियाँ
कितने खून ख़राबे कितने शोर शराबे
हमेशा से ही कुचले गये बेगुनाह प्यादे
धर्म के नाम पर बेवजह लड़ते-भिड़ते कटते-काटते लोग
जानवरों को बुरा कहने वाले जानवरों से बदतर ये लोग
वक़्त की उंगलियों पर नाचती हुई कठ-पुतलियाँ
और कठ-पुतलियों की आँखों से आज़ाद होती ख्वाब-तितलियाँ
अपने अपने खुदा से सौदेबाज़ी मिन्नतों की
ज़िंदगी नरक सी लेकिन उम्मीदें जन्नतों की
ग़लतफहमियों के दलदल में फंसे रिश्ते
और रिश्तों की दलदल में फंसे समाजी किस्से
दम घोंटता धुंआ कारखानों का, चौंधियाती रौशनी शहरों की
पेड़ों की साड़ी सहेजती सहमी धरा द्रौपदी सी
क्या क्या नहीं देखा है इसने

एक बार तो आसमान से बातें करके देखें
पूछें इससे कि क्या सोचता है?
क्या है इसके दिल में
न जाने कितने तूफान भरे बैठा है अपने अंदर
तन्हाई में रोकर बरसता तो है अक्सर
कभी कभी गुस्से में झल्लाकर गरजता भी है
मगर बोलता नहीं कुछ, बात नहीं करता
जवाब नहीं देता, सवाल नहीं करता
कहीं हमारी तरह ये भी डरता तो नहीं?
कि अगर फट पड़ा तो तूफान आ जाएगा..

No comments: