सजदा


एक ख़ामोशी से भरी वादी
कुछ चिनार के पेड़
बादलों के लम्स से गुदगुदाते पहाड़
आईने सी झील
एक पंछियों का झुण्ड
टेढ़ी मेढ़ी पगडण्डी
पुराना किला
और भीनी भीनी हवा
सब मुझसे ये कहते हैं
जब तू हंसती है
ये सजदे में रहते हैं. 

*लम्स = Touch
*सजदा = Prayer

No comments: